Search

चमत्कार (मिरेकल)!

चमत्कार | मिरेकल | Miracle | 19th June 2022 | Virtual Wire

 

Picture -pastorscottwordofgracefellowship.files.wordpress.com/


जी हाँ चमत्कार होते है जिसे परमात्मा की असीम कृपा कहना ही उचित होगा। परिस्थिति विकट हो सकती है,प्रतिकूल हो सकती है,असमय आ सकती है और यह प्रतिकूल परिस्थिति कभी कभी भयावह भी हो सकती है।


आवश्यकता होती है अपनी आत्मिक शक्ति को जाग्रत करने की, शान्त बने रहने की,सही दिशा मे जुटे रहने की।परिणाम क्या होगा इसकी चिन्ता किये बिना बस डटे रहना होता है। यह परिस्थिति कुछ भी हो सकती है।कोई बीमारी और कभी कभी तो जब हम इससे जूझ रहे होते है किसी अन्य वजह से यह अचानक एक विकराल और भयावह रूप ले लेती है हमे तब भी जुटे रहना होता है परिणाम हमारा नसीब होता है।

Picture -https://thesoulmatrix.com/


आजकल तो घर-घर मे वैवाहिक समबंधो को लेकर परिस्थितियां जटिल बनी हुई है। माँ-बाप और बच्चे दोनो ही परेशान दिखते है। भई जब एक परिपक्व उम्र मे हम किसी नये रिश्ते से जुड़ते है, तो अपने अहम को छोड़ हमे ताल-मेल बिठाना ही पड़ता है। बड़ो को भी चाहिये की कुछ दूरी बना कर अपने जीवन मे व्यस्त और मस्त रहे।


क्योंकि बच्चो की शिक्षा उनका पालन-पोषण, नौकरी और वहाँ के गलाकाट वातावरण के कारण उनकी मानसिक शक्ति क्षतिग्रस्त होती है।वह उतनी आसानी से संतुलन नही बना पा रहे होते है। इसके अतिरिक्त प्राकृतिक आपदा, महामारी कभी भी आकर हमारे जीवन को अस्त-व्यस्त कर जाते है।कौरोना इसका जीता जागता उदाहरण है। हममे से शायद ही कोई अछूता होगा जो इससे प्रभावित ना हुआ होगा। जीवन है तो यह सब चलता रहेगा बस हमे जुटे रहना है और अपना संतुलन बनाये रखना है । जी हाँ चमत्कार होते रहते है।



26 views0 comments

Recent Posts

See All